Ketu Graha Shanti Pooja Rs 2401/-

WHY YOU NEED THIS POOJA

Ketu graha is also known as a Shadow Planet. Ketu is the remaining body part of the Asura Rahu. It is believed that, when Ketu Graha is wrongly placed, natives can suffer from theft, fatal accidents, marital life, putra dosha, absentmindedness and loss of property. It can make the lives of the natives very difficult. Therefore, in such a condition, performing Ketu Graha Shanti Jaap with the help of an experienced priest by chanting 7000 Mantras of Ketu helps in getting the relief from all such issues. Pooja is followed with Hawan ritual wherein, Ghee and other sacred materials related to Lord Ketu are offered to Agni to minimize the bad effects and maximize the benefits.

As per your convenience, Pandit ji will perform your auspicious pooja to fulfilment your desired wish. The main components of this puja are like Swasti vachanam, Gauri Ganesh Puja, Ketu Graha Shanti Jaap, Kalash puja and Ketu Graha Hawan etc. This may vary slightly from place to place. 

Read More
Advantages of this Pooja:
    • It protects you from unexpected fatal accidents, misfortunes, mental hardships, diseases and evil energies.
    • Pooja/ Jaap can bring sudden, unexpected gains. Good for Ketu/Sarpa Dosha Nivaran and helps to reduce the negativity.
    • It brings happiness in home, marital bliss and love between husband and wife and fulfils the wish to settle abroad.
    • Serenity and happiness are retained amongst the members of family and business growths are observed.
    • It can be very useful for those having own or ancestral property disputes.
Your Pooja is Simplified

    Your Pooja is Simplified at “AstroPandit Om”

    ​​​​​​​Online Pooja cost: Rs 2401

    • In online pooja option, Pooja Samagri will be arranged and used by you at your place of Pooja. Panditji will be available online during entire pooja through Google Meet link, which will be shared with you. For Pooja Samagri details, Check Pooja Samagri Column below. 
    • No of Pandits: 1, Time: ~3 Hrs, Mantras: 7000
Price : Rs 3101/-
Special Price : Rs 2401/-
Location :Online through Google Meet Link
Category : Online E-Pooja/-

You will be connected with our Qualified Priest for Sankalp to get Devine blessings sitting at your Home through shared GOOGLE MEET LINK.  Pooja will be done as per procedure to fulfil your wishes, good health & good luck.

    If you want some special pooja or pooja with more Pandits to be done, please write to us in detail through CONTACT US option or ON REQUEST-SPECIAL POOJA category under BOOK POOJA option.

इस पूजा के महत्‍

केतु को छाया ग्रह कहा जाता है] राहु के बाद केतु ही एक मात्र दूषित ग्रह है जिसका प्रभाव अधिकतर नकारात्मक ही पड़ता है तीसरे, दसवें ग्यारवें और बाहरवें भाव का केतु केवल कुछ सकारात्मक परिणाम देता है। पांचवे और अष्टम भाव का केतु बहुत ही बुरे परिणाम देता है। केतु घातक दुर्घटनाओ का कारक होता है, जो शारीरिक अपंगता देता है। जब कुंडली में केतु अशुभ होता है तो इसका बुरा प्रभाव हमारे काम काज, संतान सुख,  वैवाहिक जीवन आदि पर पड़ता है केतु की अशुभता को दूर करने के लिए केतु शांति पूजा की जाती है। राहु और केतु के नाम से भी लोग भयभीत हो जाते है। ऐसा कहा जाता है कि इसका मनुष्य के  जीवन और पूरी दुनिया पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है। केतु एक छाया ग्रह है जो हर व्यक्ति के जीवन को प्रभावित करता है। समुन्द्र मंथन के दौरान एक असुर ने देवता का रूप धारण कर अमृत पान किया था। भगवान विष्णु को इस छल का पता लगने पर उन्होंने अपने सुदर्शन चक्र से असुर के मस्तक को धड से अलग कर दिया। ऐसा करने से पहले ही अमृत की कुछ बूंदें राहु के गले में चली गई थी जिस से वह सिर तथा धड सदा के लिए अमर हो गया। सिर को राहु तथा धड को केतु कहा जाता है।

केतु ग्रह यदि अनुकूल स्थिति में है तो जातक को आध्यात्मिक गुरु बना देता है यह व्यक्ति को इस क्षेत्र मान-सम्मान भी दिलाता है। यदि केतु जन्मकुंडली में शुभ स्थिति में है तो यह जातक को मुक्ति या ज्ञान प्राप्त करने की इच्छा को पूरा करने की शक्ति रखता है परन्तु यदि अगर केतु प्रतिकूल है तो इंसान की बुद्धि तक भ्रष्ट कर देता है ।

यह पूजा कराने से आपके महत्‍वपूर्ण कार्य संपन्‍न होते हैं। इस पूजा के प्रभाव से आपके जितने भी रुके हुए काम हैं वो पूरे हो जाते हैं। शारीरिक और मानसिक चिंताएं दूर होती हैं। केतु का अशुभ प्रभाव कम हो जाता है।

केतु शांति पूजा के लाभ:

  •  जीवन में अचानक घटित होने वाली वाहन दुर्घटनाओं से बचाव होता है।
  •  वैवाहिक जीवन में मधुरता आती है, पति-पत्नी के बीच प्रेम बढ़ता है।
  •  घर परिवार में सुख-शांति बनी रहती है और कामकाज में भी अच्छा धन-लाभ होता है।
  •  मानसिक शांति मिलती है, तथा स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है।

To be arrnged by you (Devotee)

Hawan Samagri & Samidha, Gangajal, Roli-Moli, aam-patte, paan-patte-supari, Kapoor, Dhoop, batti, Milk, curd, Ghee, Honey, Sugar, fruits, Panchmewa, Sweets, Flower, Mala, Nariyal, Kalash, Hawan Kund.

Related Puja

Not A Member? Connect With Us...