Brihaspativar Vrat Udyapan Pooja,

WHY YOU NEED THIS POOJA

Brihaspativar Vrat and Udyapan is done to attain successful life, marital happiness, wealth, good health, remove obstacle in marriage, cure from ailments affecting the stomach, help in gaining strength, valor, and longevity, childless couple to get parenthood and good education for children. Lord Vishnu is the main deity for this pooja. Brihaspativar vrat udyapan pooja is done on 17th Thursday after completion of 16 Vrat Thursdays. Pooja of banana plant is considered very auspicious.

Udyapan is considered to be a concluding ceremony after the successful completion of a series of Brihaspati fast. On the day of Udyapan after completing the puja rituals. it is auspicious to distribute Curd Rice to the poor people.

Read More
Advantages of this Pooja:
    • Helps in removing obstacles in marriage.
    • Marital bliss is attained by couples fulfilling their wishes of wealth and good health.
    • Considered to be auspicious on successful completion of the 16 Brihaspati Vrat.
    • To Gain high wisdom and knowledge.
    • It is believed that Childless couples get parentage.
Your Pooja is Simplified

    Your Pooja is Simplified at “AstroPandit Om”

    • Pooja Cost: Ghar Pe Pooja (At your place-home or office) : Rs 1751/-. Price is inclusive of Pooja samagri. You need to arrange eatables, utensils, hawan kund, flowers / garland etc. For details what you need to arrange, check Pooja Samagri Column below.
    • Online Pooja cost : Rs 1251/-
    • No of Pandits: 1, Time: 1-2Hrs,
Price : Rs 2100/-
Special Price : Rs 1751/-
Location :India
Category : Ghar Pe Pooja/-

निश्चित समय पर पंडित जी निर्धारित संख्या में आपकी सुविधा अनुसार पूजा करेेंगे।

    If you want some special pooja or pooja with more Pandits to be done, please write to us in detail through CONTACT US option or ON REQUEST-SPECIAL POOJA category under BOOK POOJA option.

इस पूजा के महत्‍व

बृहस्पतिवार का व्रत व उद्द्यापन पूरे श्रद्धाभाव से करने पर व्यक्ति को गुरु ग्रह का दोष खत्म हो जाता है तथा गुरु कृपा प्राप्त होती है। 16 बृहस्पतिवार व्रत करने से आपको मनोवांछित फल मिलते हैं और व्रत पूरे करके 17वें बृहस्पतिवार को उद्द्यापन करना चाहिए। इस व्रत से धन संपत्ति की प्राप्ति होती है. जिन्हें संतान नहीं है, उन्हें संतान की प्राप्ति होती है. परिवार में सुख-शांति बढ़ती है. जिन लोगों का विवाह नहीं हो रहा, उनका जल्दी ही विवाह हो जाता है. ऐसे जातकों की आर्थिक स्थिति में सुधार होता है. बुद्धि और शक्ति का वरदान प्राप्त होता है. जिससे घर में सुख समृद्धि बनी रहती है, ऐसा कहा जाता है की अगर आप 1 वर्ष में बृहस्पतिवार का व्रत करते हैं तो आपके घर में कभी भी पैसे रुपयों की कमी नही होती और आपका पर्स कभी खली नही होता।

पुराणों के अनुसार, केले के वृक्ष में भगवान विष्णु का वास माना गया है. इस दिन केले के पेड़ की पूजा से भगवान विष्णु अत्यंत प्रसन्न होते हैं.

बृहस्पतिवार का व्रत करने से व्रती का गुरु ग्रह से उत्पन्न होने वाला अनिष्ट नष्ट हो जाता है। बृहस्पति भगवान का व्रत पीले वस्त्र धारण करके करना चाहिए तथा पूजन में व्रत-धारी को पीली वस्तुए जैसे – पीले फूल, पीला चंदन, चने की दाल, हल्दी, केले, पपीता और पीला कपड़ा आदि से पूजन करना चाहिए और इन्हीं वस्तुओं का दान भी करना चाहिए। इस दिन बाल नहीं कटवाने चाहिए।

To be arranged by Panditji

Hawan Samagri & Samidha, Gangajal, Roli-Moli, aam-patte, paan-patte-supari, Kapoor, Yellow-Chandan, Dhoop, batti-etc.

To be arranged by you (Devotee)

Eatables like Milk, curd, Cow Ghee, Honey, Sugar, Haldi, Rice, Fruits, Panchmewa, Yellow-Flower, Mala, nariyal, Kalash, Hawan Kund, Yellow-Chandan, Besan-laddu, Kele, Papita, Chane ki daal,yellow-kapda, etc.

Related Puja

Not A Member? Connect With Us...