Birthday Pooja ( Asht Chiranjeevi Pooja) Rs 2101/- with Puja Samagri

WHY YOU NEED THIS POOJA
Birthday is an auspicious day in each one of our lives. Birthday pooja with the help of an experienced priest becomes necessary to offer our devotion to the God and taking his blessings for whole of the year.

It will help us to get healthy long life, love, success, and happiness in our lives by removing all the obstacles.

This pooja is also done to attain peace, and satisfaction in our life. It is indeed a day when we thank God for giving us this precious life.

As per your convenience at shubh time, Pandit ji in defined numbers will perform your auspicious pooja to fulfilment your desired wish. The main components of this puja are; Swasti vachanam, Gauri Ganesh Puja, Punyaha Vachanam and Hawan etc. This may vary slightly from place to place. 

Read More
Advantages of this Pooja:
    • You get happiness and success in your life by removing all the obstacles.
    • You attain peace and satisfaction in the life.
    • You get the blessings of God for success in all the fields.
    •  It improves our overall health, and you get blessings of God for a long life with wealth.
Your Pooja is Simplified

    Cost of Puja (No hidden charges)

    • Rs 2101/-Price is inclusive of Pooja Samagri. For what you need to arrange, please check the Pooja Samagri Column
    • No of Pandits: 1, Time: 1-2Hrs,
Price : Rs 2501/-
Special Price : Rs 2101/-
Location :At your home, Office or other place as per your request
Category : Ghar Pe Pooja/-

पंडित जी समय पर आकर विधि अनुसार पूजा करेंगे और उसके बाद हवन करेंगे.

    If you want some special pooja or pooja with more Pandits to be done, please write to us in detail through CONTACT US option or ON REQUEST-SPECIAL POOJA category under BOOK POOJA option.

इस पूजा के महत्‍व

जन्मदिन के शुभ अवसर पर अनुभवी पंडित जी द्वारा जन्मदिन (अष्टचिरंजीवीपूजा करवाते है, तो निश्चित रूप से हमें दीर्घायु, उत्तम एवं सुखी जीवन का आशीर्वाद मिलता है और हम अपने आनेवाले जीवन में सुखमय एवं वैभवशाली जीवन व्यतीत करते है। महत्‍वपूर्ण कार्य संपन्‍न होते हैं। इस पूजा के प्रभाव से जितने भी रुके हुए काम हैं वो पूरे हो जाते हैं। शारीरिक और मानसिक चिंताएं दूर होती हैं।

जन्मदिन पर हमें अष्टचिरंजीवी अर्थात- हनुमान, विभीषण, कृपाचार्य, परशुराम, मार्कण्डेय, ऋषि, अश्वथामा, दैत्यराज बलि और वेद व्यासजी का स्मरण करना चहिये,  इन्हें अमरत्व का आशिर्वाद मिला हुआ है इनका स्मरण करने से सारी बीमारियां समाप्त दूर होती हैं और मनुष्य 100 वर्ष की आयु को प्राप्त करता है। इस पूजा के फलस्वरूप जीवन में आने वाली विपरीत घटनाओं से हमारी रक्षा होती है तथा हमें दीर्घायु का आशीर्वाद मिलता है। जीवन में आनेवाले दुःख अपने आप समाप्त होते है तथा जीवन सुखद होता है। घर-परिवार में खुशियों का आगमन होता है। घर में रुपए-पैसे की बरकत होती है, धनधान्य की कमी कभी नहीं होती। स्वास्थ्य उत्तम बना रहता है, कोई बड़ी बीमारी छू भी नहीं पाती।

जन्मदिन के दिन सुबह जल्दी जागना चाहिए। मन में गणेश जी का ध्यान करें व आंखे खोलें। सबसे पहले अपनी दोनो हथेलियों का दर्शन करें। मन ही मन अपने इष्टदेव तथा गुरु को प्रणाम करेI tatha माता-पिता ke चरण स्पर्श कर उनसे आशीर्वाद लेना चाहिए। धरती माता को प्रणाम करें। नहाकर के साफ व स्वच्छ वस्त्र पहनें। अपने जन्मदिन के शुभावसर पर भगवान के चरणों में दीपक अवश्य जलाना चाहिएं तथा ईश्वर की आराधनi पूजा और उनके चरणों में फल फूल, मिठाई, वस्त्र, दक्षिणा अर्पण कर सुख शांति और कष्टों से मुक्ति के लिए आशीर्वाद लेना चाहिए।

इस अवसर पर नए वस्त्र धारण करें और पुराने वस्त्र किसी जरूरतमंद को दे देने चाहिए। पूर्व दिशा की ओर मुँह करके जातक आसन पर या अपने मातापिता के साथ में बैठ कर पूजन किया जाता है। केक की जगह कोई अन्य पौष्टिक व्यंजन भी बनाया जा सकता हैं, पर केक ही मँगानी हो तो विश्वसनीय शाकाहारी स्थान से केक मँगाने का आग्रह रखना चाहिए।

पूजन के बाद माता-पिता को प्रणाम करें। सभी आदरणीय लोगों को और अपने गुरुजनों को प्रणाम करें। उनसे आर्शीवाद लें। ब्राह्मण को भोजन करवाएं। अब स्वयं तिल-गुड़ के लड्डु तथा दूध का सेवन करें। समारोह को गरिमामय बनाने के लिए मन्दिर दर्शन , सत्संग ,सुंदर काण्ड, भगवती जागरण, सत्यनारायण कथा आदि का आयोजन किया जा सकता जा है। 

जन्मदिन के शुभावसर पर तामसिक भोजन, मॉस मदिरा सेवन तथा अनैतिक क्रिया-कलाप नहीं करना चाहिए। जन्मदिन पर नाखून एवं बाल काटना नहीं काटना चाहिए। घर में कलह अथवा किसी से लड़ाई-झगड़े बचने की हर संभव कोशिश करनी चहिए। मोमबत्ती जलाकर प्रज्ज्वलित मोमबत्तियों को अपने घर के प्रत्येक स्थान पर रख दे इससे आपके और आपके घर के अंदर नकारात्मक ऊर्जा से भी मुक्ति मिल जायेगा।

जन्मदिन के अवसर पर आंवला, पीपल,बरगद इत्यादि का पेड़ लगा सकते है  जन्म कुंडली में  कोई अरिष्ट ग्रह हो अथवा उनकी दशा चल रही हो तो उस दिन विशेष पूजा दान एवं होम द्वारा शांति करवानी चाहिए। यदि साढ़े साती या शनि की ढैया चल रही हो तो संभव हो तो अंध विद्यालय, गोशाला, अस्प्ताल इत्यादि में जाकर अन्न वस्त्र आदि का दान करना चाहिए। ऐसा करने से आपकी आर्थिक लाभ, आयु, विद्या, यश एवं बल आदि की वृद्धि होगी।

जन्मदिवस के शुभ अवसर पर शिव की आराधना करनी चाहिए साथ ही आयु वृद्धि करने वाला मन्त्र महामृत्युंजय मंत्र का जप करiना चाहिए।

 

 

Related Puja

Not A Member? Connect With Us...