Bhoomi Poojan

WHY YOU NEED THIS POOJA

To get the blessings and approval of Mother Earth (Dharti Mata) for successful Construction and occupation of the property forever happily, the Bhoomi Poojan is done by a qualified priest at your desired place.

Read More
Advantages of this Pooja:
    • Blessings of Dharti mata are sought to avoid all hurdles that would pose a hindrance to the progress of the project.
    • To eliminate Vastu dosha and negative energies that may pose hindrance during construction.
    • This pooja is believed to eradicate all the ill effects of the land emerged ever due to any reason.
    • The occupation of the property is considered to be safe and peaceful after Bhoomi Poojan.
Your Pooja is Simplified

    Your Pooja is Simplified at “AstroPandit Om”

    • Pooja Cost: Ghar pe Pooja (At your place-home or office): Rs 2100/- Price is inclusive of Pooja samagri. You need to arrange eatables, utensils, hawan kund, flowers / garland etc. For details what you need to arrange, check Pooja Samagri Column below.
    • Online Pooja cost: Rs 1551 /-
    • No of Pandits: 1, Time: 1-2Hrs,
Price : Rs 2300/-
Special Price : Rs 2100/-
Location :India
Category : Ghar Pe Pooja/-

निश्चित समय पर पंडित जी निर्धारित संख्या में आपकी सुविधा अनुसार पूजा करेेंगे और उसके उपरांत विधि विधान से हवन करेंगे।

    If you want some special pooja or pooja with more Pandits to be done, please write to us in detail through CONTACT US option or ON REQUEST-SPECIAL POOJA category under BOOK POOJA option.

इस पूजा के महत्‍व

धरती को हिंदुओं में मां का दर्जा दिया गया है क्‍योंकि वह हमें रहने के लिए स्‍थान देती है। नींव, निर्माण का सबसे महत्वपूर्ण पड़ाव होता है। नींव की खुदाई में पूजन और दिशा का ज्ञान बहुत जरूरी है। भूमि पूजन विधि पूर्वक करवाया जाना बहुत जरुरी है अन्यथा निर्माण में विलंब, राजनीतिक, सामाजिक एवं दैविय बाधाएं उत्पन्न होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। 

भूमि को जगत की जननी माना जाता है इसलिये हिंदू धर्मग्रंथों में धरती को मां का दर्जा दिया गया है। धरती हमें क्या क्या देती है यह सभी जानते हैं रहने को घर, खाने को अन्न, जल, नदियां, झरने, गलियां, सड़कें सब धरती के सीने से तो गुजरते हैं। इसलिये तो शास्त्रों में भूमि पर किसी भी कार्य को चाहे वह घर बनाने का हो या फिर सार्वजनिक इमारतों या मार्गों का, किसी भी निर्माण से पहले भूमि पूजन का विधान जरुरी है। माना जाता है कि भूमि पूजन न करने से निर्माण कार्य में कई प्रकार की बाधाएं उत्पन्न होती हैं।

मान्यता है कि यदि भूमि पर किसी भी प्रकार का कोई दोष है, या उस भूमि के मालिक से जाने-अनजाने कोई गलती हुई है. भूमि पूजन से धरती मां हर प्रकार के दोष आदि गलतियों को माफ कर अपनी कृपा बरसाती हैं। कई बार जब कोई व्यक्ति भूमि खरीदता है तो हो सकता है उक्त जमीन के पूर्व मालिक के गलत कृत्यों से भूमि अपवित्र हुई हो इसलिये भूमि पूजन द्वारा इसे फिर से पवित्र किया जाता है। भूमि पूजन करवाने से निर्माण कार्य सुचारु ढंग से पूरा होता है। निर्माण के दौरान या पश्चात जीव की हानि नहीं होती साथ ही अन्य परेशानियों से भी मुक्ति मिलती है।

To be arranged by Panditji

Hawan Samagri & Samidha, Gangajal, Roli-Moli, aam-patte, paan-patte-supari, Kapoor, Agarbatti-Dhoop, batti ,Naag Nagin joda etc.

To be arranged by you (Devotee)

Eatables like Milk, curd, Ghee, Honey, Haldi, Fruits, Sweets, Flower, Nariyal, Kalash,Hawan Kund etc.

 

 

 

 

Related Puja

Not A Member? Connect With Us...